इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

बुधवार, 24 अगस्त 2016

राष्‍ट्रभाषा - गान

हरीलाल ' मिलन '

रस - रस पूरित, छन्‍द अलंकृत,
उर - वाणी - वीणा में झंकृत,
मृदु - स्‍वर - स्‍नाता भारत माता
          जय भाषा, जय देश महान,
          जय हिन्‍दी, जय हिन्‍दुस्‍तान
नग - नागेश - प्रिय भू - सुषमामय,
पुष्‍प - अन्‍न, द्रुम - फल - उपमामय,
चिर - सुपाच्‍य - कृति, श्रेष्‍ठ - संस्‍कृति
          यश - समर्थ - लिपि - सुष्‍ठ - विधान,
          जय हिन्‍दी , जय हिन्‍दुस्‍तान।
सन्धि - शान्ति - नित,पद गंगामृत,
जन - अखण्‍ड, आदर्श - अपरिमित,
राष्‍ट्र - विधात्री, युग - निर्मात्री,
          विषय - कल्‍पना - तर्क निधान,
          जय हिन्‍दी, जय हिन्‍दुस्‍तान।
शब्‍द - कलानिधि, अर्थ - पयोनिधि,
चित्‍त, बुध्दि, मन की प्रकाशविधि,
प्राइज़ - पूजिता, सिन्‍धु - नि:सृता,
          ज्ञान - मन्‍जरी - मधु की खान,
          जय हिन्‍दी, जय हिन्‍दुस्‍तान।
भाव - भाषिणी, हिन्‍द - वासिनी,
दृश्‍य - श्रव्‍य - सुख - हेम स्‍वामिनी,
छान्‍दस् - तनुजा , कवि-कलिन्‍दजा,
           सत्‍यं शिवं सुन्‍दरम् गान,
           जय हिन्‍दी, जय हिन्‍दुस्‍तान
पता
300 ए / 2 ( प्‍लाट - 16 )
दुर्गावती सदन, हनुमन्‍त विहार
नौबस्‍ता, कानपुर - 208 021
मो: 09935299939

2 टिप्‍पणियां:

  1. कृपया नागेश के स्थान पर नगेश.सुपाच्य के स्थान पर सुप्राच्य व प्र। इस व प्राइस के स्थान प्राग्य पदें

    उत्तर देंहटाएं
  2. कृपया नागेश के स्थान पर नगेश.सुपाच्य के स्थान पर सुप्राच्य व प्र। इस व प्राइस के स्थान प्राग्य पदें

    उत्तर देंहटाएं