इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

बुधवार, 24 अगस्त 2016

तरूनाई को चुप..

ठाकुरदास ' सिध्‍द '

तरुणाई को चुप कराना चाहता है।
इसलिए माफिक बहाना चाहता है।।
साथ अपने कर लिए उसने लफंगे।
और अब ताकत दिखाना चाहता है।।
गालियों वाली बना ली फौज है जो।
गोलियों वाली बनाना चाहता है।।
हम अमन के गीत गाते हैं मगर वो।
नफरतों वाला तराना चाहता है।।
पाक दामन जो रहे नायक हमारे।
दाग दामन में लगाना चाहता है।।
वह रहे वाचाल बाकी बेज़ुबाँ हों।
जाने वह कैसा ज़माना चाहता है।।
अब अँधेरा हो चला बेहद घना है।
' सिद्ध ' इक दीपक जलाना चाहता है।।

पता
सिद्धालय 672 - 41 सुभाष नगर
दुर्ग - 491001 छत्तीसगढ़
मो. - 9406375695

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें