इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

मंगलवार, 8 नवंबर 2016

करिया बादर

श्रीमती जय भारती चन्द्राकर
करिया बादर ल आवत देख के,
जरत भुइंया हर सिलियागे।

गहिर करिया बादर ल लान के अकास मा छागे
मंझनिया कुन कूप अंधियार म सुरूज हर लुकागे
मघना अस गरजत बादर हर सबो डहार छरियागे
बिरहनी आँखी मा पिय के चिंता फिकर समागे।
करिया बादर ...

गर्रा संग बादर बरस के, जरत भुइंया के परान जुड़ागे
सोंधी माटी के सुवास हर खेत - खार म महमागे
झरर - झरर पानी गिरिस रूख राई हरियागे
हरियर - हरियर खेत - खार मा नवा बिहान आगे।
करिया बादर ...

दूरिया ले आवत बादर हर सबो ला सुख देथे
चिरैया डुबकी लगा के बरसत पानी मा पंख ला झराथे।
पानी हर अउ रदरद ले गिरथे
लइका मन ल बरसत पानी म भीजे के मजा आथे।
करिया बादर...

जेठ मा नव तपा हर आंगी अस देह ला जराथे
असाढ़ के करिया बादर देह ला चंदन अस ठंडाथे
बादर नई दिखे त मेचका - मेचकी के बिहाव ल करथे
सावन - भादो मा तरिया - नरवा लबालब हो जाथे।
करिया बादर ...

व्याख्याता
गरियाबंद

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें