इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

मंगलवार, 8 नवंबर 2016

करिया बादर

श्रीमती जय भारती चन्द्राकर
करिया बादर ल आवत देख के,
जरत भुइंया हर सिलियागे।

गहिर करिया बादर ल लान के अकास मा छागे
मंझनिया कुन कूप अंधियार म सुरूज हर लुकागे
मघना अस गरजत बादर हर सबो डहार छरियागे
बिरहनी आँखी मा पिय के चिंता फिकर समागे।
करिया बादर ...

गर्रा संग बादर बरस के, जरत भुइंया के परान जुड़ागे
सोंधी माटी के सुवास हर खेत - खार म महमागे
झरर - झरर पानी गिरिस रूख राई हरियागे
हरियर - हरियर खेत - खार मा नवा बिहान आगे।
करिया बादर ...

दूरिया ले आवत बादर हर सबो ला सुख देथे
चिरैया डुबकी लगा के बरसत पानी मा पंख ला झराथे।
पानी हर अउ रदरद ले गिरथे
लइका मन ल बरसत पानी म भीजे के मजा आथे।
करिया बादर...

जेठ मा नव तपा हर आंगी अस देह ला जराथे
असाढ़ के करिया बादर देह ला चंदन अस ठंडाथे
बादर नई दिखे त मेचका - मेचकी के बिहाव ल करथे
सावन - भादो मा तरिया - नरवा लबालब हो जाथे।
करिया बादर ...

व्याख्याता
गरियाबंद

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें