इस अंक में :

डॉ. रवीन्‍द्र अग्निहोत्री का आलेख '' हिन्‍दी एक उपेक्षित क्षेत्र '' प्रेमचंद का आलेख '' साम्‍प्रदायिकता एवं संस्‍कृति '' भीष्‍म साहनी की कहानी '' झूमर '' सत्‍यनारायण पटेल की कहानी '' पनही '' अर्जुन प्रसाद की कहानी '' तलाक '' जयंत साहू की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' परसार '' गिरीश पंकज का व्‍यंग्‍य '' भ्रष्‍ट्राचार के खिलाफ अपुन '' कुबेर का व्‍यंग्‍य '' नो अपील, नो वकील, घोषणापत्र '' गीत गजल कविता

मंगलवार, 8 नवंबर 2016

करिया बादर

श्रीमती जय भारती चन्द्राकर
करिया बादर ल आवत देख के,
जरत भुइंया हर सिलियागे।

गहिर करिया बादर ल लान के अकास मा छागे
मंझनिया कुन कूप अंधियार म सुरूज हर लुकागे
मघना अस गरजत बादर हर सबो डहार छरियागे
बिरहनी आँखी मा पिय के चिंता फिकर समागे।
करिया बादर ...

गर्रा संग बादर बरस के, जरत भुइंया के परान जुड़ागे
सोंधी माटी के सुवास हर खेत - खार म महमागे
झरर - झरर पानी गिरिस रूख राई हरियागे
हरियर - हरियर खेत - खार मा नवा बिहान आगे।
करिया बादर ...

दूरिया ले आवत बादर हर सबो ला सुख देथे
चिरैया डुबकी लगा के बरसत पानी मा पंख ला झराथे।
पानी हर अउ रदरद ले गिरथे
लइका मन ल बरसत पानी म भीजे के मजा आथे।
करिया बादर...

जेठ मा नव तपा हर आंगी अस देह ला जराथे
असाढ़ के करिया बादर देह ला चंदन अस ठंडाथे
बादर नई दिखे त मेचका - मेचकी के बिहाव ल करथे
सावन - भादो मा तरिया - नरवा लबालब हो जाथे।
करिया बादर ...

व्याख्याता
गरियाबंद

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें