इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

मंगलवार, 8 नवंबर 2016

नदिया के धार बहिस

गीता नेह
नदिया के धार बहिस
नदिया के धार बहिस
छुनुन - छुनुन छन कहिस

चउमासी कचरा मन धारोधार बोहागे
मटियाहा पानी मन सुग्घर अब छनागे
पी लौ सोसन भर सब
गुरतुर कछार कहिस... नदिया के धार बहिस

अब नइ बोहाव ग डुबकव हरहिन्छा
फरी - फरी पानी हे तउंरव छुरछिंदा
देखव दरपन कस अउ
मुॅंह ल निहार कहिस ... नदिया के धार बहिस

उजरा लौ तन ल अउ फरिहा लौ मन ल
सुस्ता लौ सुरता म खोजव लरकन ल
जॉंगर ह थक गे हे
गोड़ ल दव डार कहिस ... नदिया के धार बहिस

पयरी ला मांजथे चूंदी ल टांगथे
ओन्हा निचोवथे हॅंउला ल मॉंजथे
लुगरा बोहावत हे
पखरा ल उघार कहिस ... नदिया के धार बहिस

बालको नगर, कोरबा (छत्तीसगढ़ )

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें