इस अंक में :

मनोज मोक्षेन्‍द्र का आलेख '' सार्थक व्यंग्य के आवश्यक है व्यंग्यात्मक कटाक्षों की सर्वत्रता '', डॉ. माणिक विश्‍वकर्मा '' नवरंग '' का शोध लेख '' हिन्दी गज़ल का इतिहास एवं छंद विधान: हिन्दी की'',रविन्‍द्र नाथ टैगोर की कहानी '' सीमांत '', मनोहर श्‍याम जोशी की कहानी '' उसका बिस्‍तर '', कहानी ( अनुवाद उडि़या से हिन्दी)'' अनसुलझी''मूल लेखिका:सरोजनी साहू अनुवाद:दिनेश कुमार शास्त्री, छत्तीसगढ़ी कहिनी'' फोंक - फोंक ल काटे म नई बने बात'' लेखक:ललित साहू' जख्मी', बाल कहानी '' अनोखी तरकीब''''मेंढक और गिलहरी'' रचनाकार पराग ज्ञान देव चौधरी,सुशील यादव का व्यंग्य '' मन रे तू काहे न धीर धरे'', त्रिभुवन पांडेय का व्‍यंग्‍य ''ललित निबंध होली पर'',गीत- गजल- कविता: रचनाकार :खुर्शीद अनवर' खुर्शीद',श्याम'अंकुर',महेश कटारे'सुगम',जितेन्द्र'सुकुमार',विवेक चतुर्वेदी,सुशील यादव, संत कवि पवन दीवान,रोज़लीन,डॉ. जीवन यदु, टीकेश्वर सिन्हा'गब्दीवाला, बृजभूषण चतुर्वेदी 'बृजेश', पुस्तक समीक्षा:'' इतिहास बोध से वर्तमान विसंगतियों पर प्रहार'' समीक्षा : एम. एम. चन्द्रा'', ''मौन मंथन: एक समीक्षा''समीक्षा''मंगत रवीन्द्र,''जल की धारा बहती रहे''समीक्षा : डॉ. अखिलेश कुमार'शंखधर'

बुधवार, 15 फ़रवरी 2017

दो नवगीत

टीकेश्‍वर सिन्‍हा '' गब्‍दीवाला ''

1
देखो आई मेरे गाँव में होली।।
फागुन आते गलियों में,धूल की भीनी महक उठी।
खिल उठा मन मेरा,इच्छा मेरी लहक उठी।
माधव भइया खुश है, भाभी की मीठ बोली।
देखो आई मेरे गाँव में होली।।
देखो उगते सूरज ने,हर चेहरे पे उल्लास।
छाया बसंत राहों पे,नये पन का आभास।
घटौंदे में चर्चे खूब हैं, पनिहारिन की ठिठोली।
देखो मेरे गाँव में आई होली।।
धरती हुई सतरंगी,गगन में उड़े अबीर।
एक रंग में रंगे सब,न गरीब न अमीर।
माँ - बहने बिधुन हैं, नफरत सब ने धोली।
देखो मेरे गाँव में आई होली।।
सेमल पलास हँसते लगे,बिखराये सुंदर लाली।
कोयल की सुरीली तान से,बगिया में है खुशहाली।
बड़ी सुहानी धूप है, मस्त ही हवा डोली।
देखो मेरे गाँव में आई होली।।
ढोल - नगाड़े की धुन,कोई गाता फाग गीत।
गाँव रंगता श्यामवर्ण में,और बृजरानी की प्रीत।
हर गली में धूम है, नन्हें मुन्नों की टोली।
देखो मेरे गाँव में आई होली


2
लो बसंत आ गया।
हर्ष - उमंग छा गया।
मतवाली हवा बहने लगी,
गीत कविता कहने लगी।
तरुवर नव परिधान पा गया,
लो बसंत आ गया।
कलियों ने मुस्कान बिखेरी।
फूलों ने दिलवायी दिलेरी।
मदमस्त भौंरे को भा गया।
लो बसंत आ गया।
धरती में रौनकता छाई।
नील गगन ने ली अंगड़ाई।
सब में प्यार लुटा गया।
लो बसंत आ गया।

शिक्षक, शास. पूर्व माध्य शाला सुरडोंगर
जिला - बालोद (छ.ग.) 491 230, मोबा. : 09753269282

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें