इस अंक में :

डॉ. रवीन्‍द्र अग्निहोत्री का आलेख '' हिन्‍दी एक उपेक्षित क्षेत्र '' प्रेमचंद का आलेख '' साम्‍प्रदायिकता एवं संस्‍कृति '' भीष्‍म साहनी की कहानी '' झूमर '' सत्‍यनारायण पटेल की कहानी '' पनही '' अर्जुन प्रसाद की कहानी '' तलाक '' जयंत साहू की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' परसार '' गिरीश पंकज का व्‍यंग्‍य '' भ्रष्‍ट्राचार के खिलाफ अपुन '' कुबेर का व्‍यंग्‍य '' नो अपील, नो वकील, घोषणापत्र '' गीत गजल कविता

बुधवार, 15 फ़रवरी 2017

राह दिखाये कौन

ब्रजभूषण चतुर्वेदी '' बजेश '' 

डगमग- डगमग डोले नैया, पार लगाये कौन
यह अंधों की नगरी भैया, राह दिखाये कौन

      कोई यहाँ काम में अंधा, कोई मद में फूला
     कोई हुआ क्रोध में पागल, अपने पथ को भूला
मची हर तरफ ता - ता भैया, हाथ बढ़ाये कौन
यह अंधों की नगरी भैया, राह दिखाये कौन
     सूख गई भावों की सरिता, अपनापन हे खोया
     खुदगर्जी का बीज हवा ने, जाने कैसा बोया
जीवन लगता भूल भूलैया,दीप जलाये कौन
यह अंधों की नगरी भैया, राह दिखाये कौन

     सबकी अपनी-अपनी ढपली, अपने-अपने राग
     चारों तरफ खड़े फुफकारें, शंकाओं के नाग
अफरा - तफरी का मौसम है, धीर बंधाये कौन
यह अंधों की नगरी भैया, राह दिखाये कौन

श्री रघुनाथ मंदिर के पास, 
धाकड़पारा, बारां - 325 205 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें