इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

शुक्रवार, 26 मई 2017

मेरा गांव

सुरेश सर्वेद 

खोजता हूं लेकर दीया,कहाँ है मेरा गाँव
जहाँ खड़ा हूं मैं वहां पर
जहाँ न अपनापन है न छाँव।
खेतों की हरियाली खो गई
उन्मुक्त और निस्वार्थ गूंजती हंसी
आज खो गई है।

जब पड़ती थी
पहली बारिस की बूंदे धरा पर
मिट्टी से उठती सौंधी सुगंध से
तन - मन पुलकित हो उठता।
अब बारिस के साथ
क्रांकीट और तारकोल की गंध से
तन - मन विचलित हो उठता है।

खोजता हूं वह उन्मुक्त हंसी
महसूस करना चाहता हूं वह सौंधी सुगंध
पर दूर - दूर
बहुत दूर तक
न सुनाई देती है वह उन्मुक्त हंसी
और न महसूस होता है सौंधी सुगंध

पगडंडी अब बन गई सड़कें
सड़के चौड़ी हो गई
बाग - बगीचे हो गये वीरान
कोयल की कूक खो गई
'' ठीहा '' पर खड़ा देखता हूं
क्या यह वही जगह है
जहां कभी अपनापन हुआ करता था।
जो अब सपना हो गया है।
जहां बरगद है, न छाँव है
क्या यही है मेरा गाँव है?

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें