इस अंक में :

डॉ. रवीन्‍द्र अग्निहोत्री का आलेख '' हिन्‍दी एक उपेक्षित क्षेत्र '' प्रेमचंद का आलेख '' साम्‍प्रदायिकता एवं संस्‍कृति '' भीष्‍म साहनी की कहानी '' झूमर '' सत्‍यनारायण पटेल की कहानी '' पनही '' अर्जुन प्रसाद की कहानी '' तलाक '' जयंत साहू की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' परसार '' गिरीश पंकज का व्‍यंग्‍य '' भ्रष्‍ट्राचार के खिलाफ अपुन '' कुबेर का व्‍यंग्‍य '' नो अपील, नो वकील, घोषणापत्र '' गीत गजल कविता

मंगलवार, 23 मई 2017

'' नवरंग'' के मुक्तक

डॉ.माणिक विश्वकर्मा नवरंग,
घर जला दे वो आग मत रखना, जाति चलती है वंश चलता है
मन दुखा दे वो राग मत रखना, सभा में अब भी कंस चलता है
कटघरे में तुम्हें खड़ा कर दे,लक्ष्य होता है जब सिंहासन का
कभी ऐसा सुराग मत रखना,धर्म में भी विध्वंश चलता है


राह बन जाना भीड़ मत बनना, जमीं पे पहले पांव धरती है
चाटूकारों की रीढ़ मत बनना, फिर चिड़िया उड़ान भरती है
जो चमन को उजाड़ा कराते हैं, वो कभी आसमां नहीं छूती
उन परिंदों का नीड़ मत बनना, पंख फैलाने से जो डरती है

अच्छी शुरूआत दे दिये होते, भरमाने लगा है चित्र मेरा
सत्य का साथ दे दिये होते, कतराने लगा है मित्र मेरा  
बच गए होते डूब न पाते, आते जाते टंगा हुआ दर्पण
लोग गर साथ दे दिये होते, दिखलाने लगा चरित्र मेरा

हसरतें बेहिसाब रखते हो, जो भी मिलता है बाँट देते हैं
मन में हाजि़र जवाब रखते हो, हर खाई को पाट देते हैं
सिर्फ पढ़ते नहीं घर में, हम फकीरों का कुछ भरोसा नहीं
हर किस्म की किताब रखते हो, कहीं भी वक्त कट देते हैं

खास चलता है आम चलता है, मान हरदम दिया करे कोई
बस इसी तरह काम चलता है, नाम हरदम लिया करे कोई
नाम लिखना जिन्हें नहीं आता, अब तो बंदे भी चाहते हैं कि
ऐसे लोगों का नाम होता है, उनकी पूजा किया करे कोई

कब तलक अपने दिल को बहलाएँ, करले जी भरके मनमानी
तेरी रुसवाइयों को अपनाएं, ये लड़कपन नहीं है नादानी
अब तो ये हाल है कि दिन ढलते, एक दिन खुद ब खुद हो जाएगा
सोचना पड़ता है कहां जाएं, दूध का दूध पानी का पानी

जो न कालीन हैं न जूते हैं, सपने होने लगे हैं फंतासी
वे लोग आसमां को छूते हैं, राम होता नहीं हर वनवासी
कभी थामे नहीं हैं बैसाखी, सिर्फ दो बूंद पानी के बदले
जहां पहुंचे हैं अपने बूते हैं, कंठ सूखे थे दे दिये फांसी

अपनी आँखों में जड़ लिया होता, लोग बेवजह बैर रखते हैं
हर एक अंग को पढ़ लिया होता, दोस्त की जगह गैर रखते हैं
थाम लेता मैं आप गर कहते, जहां चलना होता है मुश्किल
लड़ने कहते तो लड़ लिया होता, उन्हीं राहों में पैर रखते हैं
पता
क्वा .नं.- ए. एस.14,
पावरसिटी,जमनीपाली,
कोरबा (छग) 495450
मोबा. नं. 9424141875
 
मोब॰ नं॰ 9424141875 , ई॰मेल- vskm_manik@rediffmail.com
 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें