इस अंक में :

मनोज मोक्षेन्‍द्र का आलेख '' सार्थक व्यंग्य के आवश्यक है व्यंग्यात्मक कटाक्षों की सर्वत्रता '', डॉ. माणिक विश्‍वकर्मा '' नवरंग '' का शोध लेख '' हिन्दी गज़ल का इतिहास एवं छंद विधान: हिन्दी की'',रविन्‍द्र नाथ टैगोर की कहानी '' सीमांत '', मनोहर श्‍याम जोशी की कहानी '' उसका बिस्‍तर '', कहानी ( अनुवाद उडि़या से हिन्दी)'' अनसुलझी''मूल लेखिका:सरोजनी साहू अनुवाद:दिनेश कुमार शास्त्री, छत्तीसगढ़ी कहिनी'' फोंक - फोंक ल काटे म नई बने बात'' लेखक:ललित साहू' जख्मी', बाल कहानी '' अनोखी तरकीब''''मेंढक और गिलहरी'' रचनाकार पराग ज्ञान देव चौधरी,सुशील यादव का व्यंग्य '' मन रे तू काहे न धीर धरे'', त्रिभुवन पांडेय का व्‍यंग्‍य ''ललित निबंध होली पर'',गीत- गजल- कविता: रचनाकार :खुर्शीद अनवर' खुर्शीद',श्याम'अंकुर',महेश कटारे'सुगम',जितेन्द्र'सुकुमार',विवेक चतुर्वेदी,सुशील यादव, संत कवि पवन दीवान,रोज़लीन,डॉ. जीवन यदु, टीकेश्वर सिन्हा'गब्दीवाला, बृजभूषण चतुर्वेदी 'बृजेश', पुस्तक समीक्षा:'' इतिहास बोध से वर्तमान विसंगतियों पर प्रहार'' समीक्षा : एम. एम. चन्द्रा'', ''मौन मंथन: एक समीक्षा''समीक्षा''मंगत रवीन्द्र,''जल की धारा बहती रहे''समीक्षा : डॉ. अखिलेश कुमार'शंखधर'

मंगलवार, 23 मई 2017

घास काटने की मशीन

उपेन्द्रनाथ अश्क की कहानी

रेल की लाइनों के पारए इस्लामाबाद की नयी आबादी के मुसलमान जब सामान का मोह छोड एजान का मोह लेकर भागने लगे तो हमारे पड़ोसी लहनासिंह की पत्नी चेती।
श्श्तुम हाथ पर हाथ धरे नामर्दों की भाँति बैठे रहोगेएश्श् सरदारनी ने कहाए श्श्और लोग एक से एक बढ़िया घर पर कब्जा कर लेंगे।श्श्
सरदार लहनासिंह और चाहे जो सुन लेंए परन्तु औरत जात के मुँह से श्नामर्दश् सुनना उन्हें कभी गवारा न था। इसलिए उन्होंने अपनी ढीली पगड़ी को उतारकर फिर से जूड़े पर लपेटाय धरती पर लटकती हुई तहमद का किनारा कमर में खोंसाय कृपाण को म्यान से निकालकर उसकी धार का निरीक्षण करके उसे फिर म्यान में रखा और फिर इस्लामाबाद के किसी बढ़िया श्नयेश् मकान पर अधिकार जमाने के विचार से चल पड़े।
वे अहाते ही में थे कि सरदारनी ने दौड़कर एक बड़ा.सा ताला उनके हाथ में दे दिया। श्श्मकान मिल गया तो उस पर अपना कब्जा कैसे जमाओगेघ्श्श्
सरदार लहनासिंह ने एक हाथ में ताला लियाए दूसरा कृपाण पर रखा और लाइनें पार कर इस्लामाबाद की ओर बढ़े।
खालसा कालेज रोडए अमृतसर परए पुतली घर के समीप ही हमारी कोठी थी। उसके बराबर एक खुला अहाता था। वहीं सरदार लहनासिंह चारा काटने की मशीनें बेचते थे। अहाते के कोने में दो.तीन अँधेरी.सीली कोठरियाँ थीं।
मकान की किल्लत के कारण सरदार साहब वहीं रहते थे। यद्यपि काम उन्होंने डेढ़.दो हजार रुपये से आरम्भ किया थाए पर लड़ाई के दिनों में ;किसानों के पास रुपये का बाहुल्य होने सेद्ध उनका काम खूब चमका। रुपया आया तो सामान भी आया और सुख.सुविधा की आकांक्षा भी जगी। यद्यपि प्रारम्भ में उस अहाते और उन कोठरियों को पाकर पति.पत्नी बड़े प्रसन्न हुए थेए परन्तु अब उनकी पत्नीए जो श्सरदारनीश् कहलाने लगी थीए उन कोठरियों तथा उनकी सील और अँधेरे को अतीव उपेक्षा से देखने लगी थी। ग्राहकों को मशीनों की फुर्ती दिखाने के लिए दिन.भर उसमें चारा कटता रहता था। अहाते.भर में मशीनों की कतारें लगी थीं जो भावना.रहित हो अपने तीखे छूरों से चारे के पूले काटती रहती थीं। सरदारनी के कानों में उनकी कर्कश ध्वनि हथौड़ों की अनवरत चोटों.सी लगती थीं। जहाँ.तहाँ पड़े हुए चरी के पूले और चारे के ढेर अब उसकी ऑंखों को अखरने लगे। सरदार लहनासिंह तो यद्यपि उनकी पगड़ी और तहमद रेशमी हो गयी थी और उनके गले में लकीरदार गबरुन की कमींज का स्थान घुटनों तक लम्बी बोस्की की कमीज ने ले लिया थावही पुराने लहनासिंह थे। उन्हें न कोठरियों की तंगी अखरती थीए न तारीकीए न मशीनों की कर्कशताए न चारे के ढेरों की निरीहताए बल्कि वे तो इस सारे वातावरण में बड़े मस्त रहते थे। वे उन सरदारों में से हैं जिनके सम्बन्ध में एक सिख लेखक ने लिखा है कि जिधर से पलटकर देख लोए सिख दिखाई देंगे।
कुछ पतले.दुबले होंए यह बात नहीं। अच्छे.खासे हृष्ट.पुष्ट आदमी थे और उनकी मर्दुमी के परिणामस्वरूप पाँच बच्चे जोंकों की तरह सरदारनी से चिपटे रहते थे। परन्तु यह सरदारनी का ढंग था। उसे यदि सरदार लहनासिंह से कोई काम कराना होताए जिसमें कुछ बुद्धि की आवश्यकता हो तो वह उन्हें श्बुद्धूश् कहकर उकसाती और यदि ऐसा काम कराना होताए जिसमें कुछ बहादुरी की जरूरत हो तो उन्हें नामर्द का ताना देती। उसका ढंग था तो खासा अशिष्ट पर रुपया आने और अच्छे कपड़े पहनने ही से तो अशिष्ट आदमी शिष्ट नहीं हो जाता। फिर सरदारनी को नये धन का भान चाहे होए शिष्टता का भान कभी न था।
सरदार लहनासिंह इस्लामाबाद पहुँचे तो वहाँ मार.धाड़ मची हुई थी। उनकी चारा काटने की मशीनें जिस प्रकार भावना.रहित होकर चरी के निरीह पूले काटती थींए कुछ उसी प्रकार उन दिनों एक धर्म के अनुयायी दूसरे धर्म के अनुयायियों को काट रहे थे। सरदार लहनासिंह ने अपनी चमचमाती हुई कृपाण निकाली कि यदि किसी मुसलमान से मुठभेड़ हो जाये तो तत्काल उसे अपनी मर्दुमी का प्रमाण दे दें। परन्तु इस ओर जीवित मुसलमान का निशान तक न था। हाँए गलियों में रक्तपात के चिह्न अवश्य थे। और दूर लूट.मार की आवाजें भी आ रही थीं।
तभीए जब वे सतर्कता से बढ़े जा रहे थेए उनको अपने मित्र गुरदयाल सिंह मकान का ताला तोड़ते दिखाई दिये।
सरदार लहनासिंह ने रुककर प्रश्नसूचक दृष्टि से उनकी ओर देखा।
श्श्मैं तो इस मकान पर कब्जा कर रहा हूँ।श्श् सरदार गुरदयालसिंह ने एक उचटती हुई दृष्टि अपने मित्र पर डाली और निरन्तर अपने काम में लगे रहे।
तब सरदार लहनासिंह ने ढीली होती हुई पगड़ी का सिरा निकालकर पेच कसा और अपने मित्र के नये मकान की ओर देखा। उसे देखकर उन्हें अपने लिए मकान देखने की याद आयी और वे तत्काल बढ़े। दो.एक मकान छोड़कर उन्हें सरदार गुरदयालसिंह की अपेक्षा कहीं बड़ा और सुन्दर मकान दिखाई दियाए जिस पर ताला लगा था। आव देखा न तावए उन्होंने गली में से एक बड़ी.सी ईंट उठायी और दो.चार चोटों ही में ताला तोड़ डाला।


वह मकान यद्यपि बहुत बड़ा न थाए परन्तु उनकी उन कोठरियों की तुलना में तो स्वर्ग से कम न थाए कदाचित् किसी शौकीन क्लर्क का मकान थाए क्योंकि एक छोटा.सा रेडियो भी वहाँ था और ग्रामोफोन भी। गहने.कपड़े न थे और ट्रंक खुले पड़े थे। मकान वाला शायद मार.धाड़ से पहले शरणार्थी कैम्प या पाकिस्तान भाग गया था। जो सामान वह आसानी से साथ ले जा सकता थाए ले गया था। फिर भी जरूरत का काफी सामान घर में पड़ा था। यह सब देखकर सरदार लहनासिंह ने उल्टी कलाई मुँह पर रखी और जोर से बकरा बुलाया। फिर तहमद की कोर को दोनों ओर से कमर में खोंसा और सामान का निरीक्षण करने लगे।
जितनी काम की चीजें थींए वे सब चुनकर उन्होंने एक ओर रखींए अनावश्यक उठाकर बाहर फेंकीए वही बड़ा तालाए जो वे घर से लाये थेए मकान में लगायाए गुरदयालसिंह को बुलाकर समझाया कि उनके मकान का खयाल रखें और स्वयं अपना सामान लाने चले कि मकान पूर्ण रूप से उनका हो जाये।
जब वे अपने घर पहुँचे तो उन्हें खयाल आया कि सामान ले जाएँगे कैसेघ् इस भगदड़ में तांगा.इक्का कहाँघ् तब अहाते से साइकिल लेकर वे अपने पुराने मित्र रामधन ग्वाले के यहाँ पहुँचे जिसकी बैलगाड़ी पर ;ट्रकों पर लाने.ले आने से पहलेद्ध वे अपनी चारा काटने की मशीनें लादा करते थे। मिन्नत.समाजत करए दोहरी मंजदूरी का लालच देने के बाद वे उसे ले आये।
जब सारा सामान गाड़ी में लद गया और वे चलने को तैयार हुए तो सरदारनी ने साथ चलने का अनुरोध किया। तब उन्होंने उस नेकबख्त को समझाया कि वहाँ के दूसरे सरदार अपनी सिंहनियों को बुला लेंगे तो वे भी ले जाएँगे। वे लाख सिंहनियाँ सहीसरदार लहनासिंह ने अपनी पत्नी को समझायापर हैं तो औरतें ही और दंगे.फिसाद में औरतों ही को अधिक सहना पड़ा है। फिर उन्होंने समझाया कि अहाते का भी तो खयाल रखना चाहिए। शरणार्थी धड़ाधड़ आ रहे हैंए कौन जाने यहाँ घर खुला देखकर जम जाए।
सरदारनी मान गयीए परन्तु जब सरदार लहनासिंह चलने लगे तो उसने सुझाया कि वे सामान के साथ चारा काटने की एक मशीन ले जाकर अवश्य अपने नये घर में स्थापित कर देंए ताकि उनकी मिलकियत में किसी प्रकार का सन्देह न रहे और सभी को पता चल जाये कि यह मकान चारा काटने की मशीनों वाले सरदार लहनासिंह का है।
सरदारनी का यह प्रस्ताव सरदार जी को बहुत अच्छा लगा।
यद्यपि बैलगाड़ी में और स्थान न थाए परन्तु सामान पर सबसे ऊपर चारा काटने की एक मशीन किसी.न.किसी प्रकार रखी गयी। गिर न जायेए इसलिए रस्सों से उसे कसकर बाँधा गया और सरदार लहनासिंह अपने नये घर पहुँचे। गली ही में उन्होंने देखा कि सरदार गुरदयालसिंह की सिंहनी और बच्चे तो नये मकान में पहुँच भी गये हैं। तब उन्हें लगा कि उनसे भारी गलती हो गयी है। उन्हें भी अपनी सिंहनी को तत्काल ले आना चाहिए। यदि पतला.दुबला गुरदयाल अपनी सिंहनी को ला सकता है तो वे क्यों नहीं ला सकते।
यह सोचना था कि सारे सामान को उसी प्रकार डयोढ़ी में रख वही बड़ा.सा ताला लगाए उन्होंने गुरदयालसिंह से कहा कि भाई जरा खयाल रखनाए मैं भी अपनी सिंहनी को ले आऊँए संगत हो जाएगी।
और उसी बैलगाड़ी पर सरदार लहनासिंह उल्टे पाँव लौटे। घर पहुँचकर उन्होंने अपनी सरदारनी को बच्चों के साथ तत्काल तैयार होने के लिए कहा।
परन्तु एक.डेढ़ घंटे के बाद जब अपने बीवी.बच्चों सहित सरदार लहनासिंह इस्लामाबाद पहुँचे तो उनके नये मकान का ताला टूटा पड़ा था। डयोढ़ी से उनका सारा सामान गायब था। केवल चारा काटने की मशीन अपने पहरे पर मुस्तैदी से जमी हुई थी। घबराकर उन्होंने गुरदयालसिंह को आवाज दीए परन्तु उनके मकान में कोई और सरदार विराजमान थे। उनसे पता चला कि गुरदयालसिंह दूसरी गली के एक और अच्छे मकान में चले गये हैं। तब सरदार लहनासिंह कृपाण निकालकर अपने मकान की ओर बढ़े कि देखें चोर और क्या.क्या ले गये हैं।
डयोढ़ी में उनके प्रवेश करते ही दो लम्बे.तड़ंगे सिखों ने उनका रास्ता रोक लियाए बैलगाड़ी पर सवार उनके बीवी.बच्चों की ओर संकेत करते हुए उन्होंने कहा कि यह मकान शरणार्थियों के लिए नहीं। इसमें थानेदार बलवन्तसिंह रहते हैं। थानेदार का नाम सुनकर लहनासिंह की कृपाण म्यान में चली गयी और पगड़ी कुछ और ढीली हो गयी।
श्श्हुजूरए इस मकान पर तो मेरा ताला पड़ा था। मेरा सारा सामानण्ण्ण्।श्श्
श्श्चलो.चलो बाहर निकलो। अदालत में जाकर दावा करो। दूसरे के सामान को अपना बताते हो।श्श्
और उन्होंने सरदार लहनासिंह को डयोढ़ी से ढकेल दिया। तभी लहनासिंह की दृष्टि चारा काटने की मशीन पर गयी और उन्होंने कहा रू
श्श्देखिएए यह मेरी चारा काटने की मशीन हैए किसी से पूछ लीजिएए मुझे यहाँ सभी जानते हैं।श्श्
परन्तु शोर सुनकर अपने श्नयेश् मकानों से जो सरदार या लाला बाहर निकले उनमें एक भी परिचित आकृति लहनासिंह को न दिखाई दी।
श्श्यों क्यों नहीं कहते कि चारा काटने की मशीन चाहिएएश्श् उन्हें धकेलने वाले एक सिख ने कहा और वह अपने साथी से बोलाए श्श्सुट्ट ओ करतारसिंहाए मशीन नूं बाहर। गरीब शरणार्थी हण। असां इह मशीन साली की करनी ए।श्श्
और दोनों ने मशीन बाहर फेंक दी।
दो.ढाई घंटे के असफल वाबेले के बाद जब सरदार लहनासिंहए रात आ गयी जानकरए वापस अपने अहाते को चले तो उनके बीवी.बच्चे पैदल जा रहे थे और बैलगाड़ी पर केवल चारा काटने की मशीन लदी हुई थी।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें