इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

सोमवार, 21 अगस्त 2017

बाबा की लोरी, मां की ममता का दर्पण

कवयित्री सरिता बाजपेई
 
भावना मुस्कान रिश्तों में लुटाती
थपकियाँ दे पीर मैं अपनी सुलाती
प्यार के धागे बंधी राखी का बंधन
बाबा की लोरी, माँ की ममता का दर्पण

अनगिनत संकल्प की माला को गूंथ्‍ाूं
कुल, नगर, वन देवता के पाँव पूजूं
हैं सरस पावन मृदुल जीवन के धारे
पल्लवित जीवन धरा के स्वप्न सारे
भोर की पहली किरण घिसती है चन्दन
बाबा की लोरी, माँ की ममता का दर्पण

तन की काया भर रही आँगन सवेरा
आँखे मूंदे प्रार्थना करती है फेरा
जग गई फिर साधना होकर सकल है
ऐसा लगता यह कई जन्मों का फल है
गाता है पाँव की पायल पे मधुवन
बाबा की लोरी, माँ की ममता का दर्पण

रजनी की पलकों में सुधियों का मेला
डाल पर बैठा है मन पंछी अकेला
उर विकल ने जब पुन : पाती है बांची
खोल घूँघट वेदना आँगन में नाची
लट खुली यादें ह्रदय गूंथे अकारण
बाबा की लोरी, माँ की ममता का दर्पण

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें