इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )बातों का आतंकवाद ...: सुशील यादव,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )खोखली बातें:नीतू सिंह रेणुका,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात,''

गुरुवार, 22 फ़रवरी 2018

धरती के बेटा

पाठक परदेशी

तन बर अन्न देवइया, बेटा धरती के किसान।
तोरे करम ले होथे, अपने देश के उत्थान॥
सरदी, गरमी अऊ बरसा,
नई चिनहस दिन राती।
आठों पहर चिभिक काम म
हाथ गड़े दूनों माटी॥
मुंड म पागा, हाथ तुतारी, नांगर खांध पहिचान।
तोरे करम ले होथे, अपने देश के उत्थान॥
कतको आगू सुरूज उवे के,
पहुंच खेत म जाथस।
सुरूज बुड़े के कतको पाछू,
घर कुरिया म आथस॥
तोरे मेहनत के हीरा - मोती चमके खेत खलिहान।
तोरे करम ले होथे, अपने देश के उत्थान॥
जांगर टोर कमइयां तोर,
बर नइये कभू आराम कहूं।
लहलहावय पीके पछीना,
कोदो कुटकी, धान गहूं॥
डार तन, मन डार हे थोरको नइये अभिमान।
तोरे करम ले होथे, अपने देश के उत्थान॥
हाथ म देथस हाथ तहीं,
जब कोनों सहकारी मांगय।
तोरे उदिम, लोगन मन म,
भाव सहकार के जागय॥
मुचमचा थे जिनगी, सोनहां होथे सांझ बिहान।
तोरे करम ले होथे, अपने देश के उत्थान॥

डाईट कबीरधाम

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें