इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

गुरुवार, 22 फ़रवरी 2018

फरवरी 2018 से अप्रैल 2018

आलेख
छत्तीसगढ़ी पारंपरिक लोकगीतों का सामाजिक संदर्भ, लोकगीतों में लोक आकांक्षा - परंपरा की अभिव्यक्ति  - कुबेर
डॉ. पीसी लाल यादव के कविता म पीरित अउ पीरा के आरो  - यशपाल जंघेल
शोध आलेख
नरेश मेहता के उपन्यासÓ यह पथ बन्धु थाÓ में लोक सांस्कृतिक परिदृश्य के विविध रुप - शोधार्थी आशाराम साहू
Ó जमुनीÓ कहानी संग्रह में लोक जीवन और लोक संस्कृति - शोधार्थी जीतलाल
लोक गीतों में झलकती संस्कृति का प्रतीक होली - आत्माराम यादव Ó पीवÓ
  कहानी
संतगीरी - सनत कुमार जैन
अनुत्तरित - राकेश भ्रमर 
छत्तीसगढ़ी कहानी
फिरंतीन -शिवशंकर शुक्ल 
व्यंग्य
कवि, कहानी कब लिखता है - हरिशंकर परसाई   
अंग्रेजी लाल की हिन्दी - वीरेन्द्र Ó सरलÓ 
कविता/ गीत/ गजल
धरती के बेटा - पाठक परदेशी  (छत्तीसगढ़ी गीत),
धन - धन से मोर किसान - द्वारिका प्रसाद Ó विप्रÓ  (छत्तीसगढ़ी गीत)
लघुकथा
अंधी का बेटा
लघु व्यंग्य
अगले जनम मोहे कुतिया कीजो
बोध कथा
लोमड़ी की तरह नहीं, शेर की तरह बनो 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें