इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

गुरुवार, 22 फ़रवरी 2018

लोक गीतों में झलकती संस्कृति का प्रतीक होली

- आत्माराम यादव पीव

होली की एक अलग ही उमंग और मस्ती होती है जो अनायास ही लोगों के दिलों में गुदगुदी व रोमांच से भर देती है। खेतों में गेहूं चने की फसल पकने लगती है। जंगलों में महुए की गंध मादकता भर देती है। कहीं आम की मंजरियों की महक वातावरण को बासन्ती हवा के साथ उल्लास भरती है तो कहीं पलाश दिल को हर लेता है। ऐसे में फागुन मास की निराली हवा में लोक संस्कृति परम्परागत परिधानों में आन्तरिक प्रेमानुभूति के सुसज्जित होकर चारों ओर मस्ती भंग आलम बिखेरती है जिससे लोग जिन्दगी के दुख - दर्द भूलकर रंगों में डूब जाते है। शीत ऋतु की विदाई एवं ग्रीष्म ऋतु के आगमन की संधि बेला में युग मन प्रणय के मधुर सपने सजोये मौसम के साथ अजीव हिलोरें महसूस करता है। जब सभी के साथ ऐसा हो रहा हो तो यह कैसे हो सकता है कि ब्रज की होली को बिसराया जा सके। हमारे देश के गाँव - गाँव में नगाड़े पर थाप पड़ने लगती है,झांझरों की झंकार खनखना उठती है और लोक गीतों के स्वर समूचे वातावरण को मादक बना देते हैं। आज भी ब्रज की तरह गांवों व शहरों के नर - नारी बालक - वृद्ध सभी एकत्रित होकर खाते हैं पीते - गाते हैं और मस्ती में गाते - नाचते हैं।
राधा कृष्ण की रासस्थली सहित चौरासी कोस की ब्रजभूमि के अपने तेवर होते हैं जिसकी झलक गीतों में इस तरह फूट पड़ने को आतुर है जहां युवक युवतियों में पारंपरिक प्रेमाकंट के उदय होने की प्राचीन पराकाष्ठा परिष्कृत रूप से कूक उठती है:
आज विरज में होली रे रसिया
होली रे रसिया बरजोरी रे रसिया
कहॅू बहुत कहॅू थोरी रे रसिया
आज विरज में होली रे रसिया।
नटखट कृष्ण होली में अपनी ही चलाते है। गोपियों का रास्ता रोके खड़े होना उनकी फितरत है तभी जी भर कर फाग खेलने की उन जैसी उच्छृखंलता कहीं देखने को नहीं मिलती। उनकी करामाती हरकतों से गोपियां समर्पित हो जाती है और वे अपनी बेबसी घंूघट काढ़ने की शर्महया को बरकरार रखे मनमोहन की चितवन को एक नजर देखने की हसरत लिये जतलाती है कि सच मैं अपने भाई की सौगंध खाकर कहती हूं कि मैं तुम्हें देखने से रही। इसलिये उलाहना करते हुये कहती है कि
भावै तुम्हें सो करौ सोहि लालन
पाव पड़ौ जनि घूंघट टारौ
वीर की सौ तुम्हे देखि है कैसे
अबीर तो आँख बचाय के डारौ
जब कभी होली खेलते हुए कान्हा कहीं छिप जाते है तब गोपियां व्याकुल हो उन्हें ढूंढती है। उनके लिए कृष्ण उस अमोल रत्न की तरह है जो लाखों में एक होता है। वे कृष्ण के मन ही मन नहीं अपितु अंगों की सहज संवेदनाओं से भी चिर - परिचित है तभी उनके अंग स्पर्श के अनुभव को तारण करते हुए उपमा देती है कि उनके अंग माखन की लुगदी से भी ज्यादा कोमल है:
अपने प्रभु को हम ढूंढ लियों
जैसे लाल अमोलक लाखन में
प्रभु के अंग की नरमी है जिती
नरमी नहीं ऐसी माखन में।
वे कृष्ण को एक नजरभर के लिये भी अपने से अलग रखने को कल्पना नहीं करती। यदि वे नजरों के आगे नहीं होते तो उस बिछोह तक को वे अपने कुल की मर्यादा पानी में मिलाकर पीने का मोह नहीं त्यागती। जब कृष्ण दो चार दिन नहीं मिलते तो उस बिछुड़न की दशा में उनको होश भी नहीं रहता कि कब उनकी आँखों से बरसने वाले आँसुओं से शरीर धुल गया है:
मनमोहन सों बिछुरी जब से
तन आँसुन सौ नित धोबति है
हरीचन्द्र जू प्रेम के फन्द परी
कुल की कुल लाजहि खोवती है।
इस कारण सभी गोपियां मान प्रतिष्ठा खोकर दुख उठाने के लिये सदैव तत्पर रहती हैं। उन्हें भोजन में रूचि नहीं है, बशर्ते कृष्ण ब्रजभूमि त्यागने को न कहे। ब्रज भूमि से इतना अधिक गहरा लगाव हो गया है जैसे आशा का संबंध शरीर से एकाकार हो जाता है.
कहीं मान प्रतिष्ठा मिले - न -मिले
अपमान गले में बंधवाना पड़े
अभिलाषा नहीं सुख की कुछ भी
दुख नित नवीन उठाना पड़े
ब्रजभूमि के बाहर किन्तु प्रभो
हमको कभी भूल के न जाना पड़े
जल भोजन की परवाह नहीं
करके व्रत जीवन यूँ ही बिताना पड़े।
फाग की घनी अंधेरी रात में श्याम का रंग उसमें मेल खाता है। गोपी उन्हें रंगने को दौड़ती है किन्तु वे पहले ही सतर्क है और गोपियां अपने मनोरथ सिद्घ किये बिना कृष्ण के हाथों अपने वस्त्र ओढ़नी तक लुटा आती है:
फाग की रैनि अंधेरी गलि
जामें मेल भयो सखि श्याम छलि को
पकड़ बाँह मेरी ओढ़नी छीनी
गालन में मलि दयो रंग गुलाल को टीको।
आयो हाथ न कन्हैया गयो न भयो
सखी हाय मनोरथ मेरे जीको।
कृष्ण पर रीझी गोपियां अनेक अवसर खो बैठती है तो कई पाती भी है। इधर कृष्ण, गोपी को अकेला पाकर उस पर अपना अधिकार जताते है तो उधर गोपियां कृष्ण को गलियों में रोक गालियां गाते हुए तालियां बजाती पिचकारी से रंग देती है:
मैल में माई के गारी दई फिरि
तारी दई ओ दई ओ दई पिचकारी
त्यों पदमाकर मेलि मुढ़ि इत
पाई अकेली करी अधिकारी।
फाग हो और बृजभान दुलारी न हो ऐसा संभव नहीं। रंग गुलाल केसर लिये मधुवन में कृष्ण के मन विनोद हिलोर लेता है कि अब बृजभान ललि के साथ होली खेलने का आनन्द रंग लायेगा:
हरि खेलत फाग मधुवन में
ले अबीर सुकेसरि रंग सनै
उत चाड़ भरी बृजभान सुता
उमंग्यों हरि के उत मोढ़ मनै।
होली खेलते समय कृष्ण लाल रंगमय हो जाते है जागते हुए उनकी आंखें भी लाल हो गई है। नंदलाल, लाल रंग से रंगे है यहाँ तक कि पीत वस्त्र पीताम्बर सहित मुकुट भी लाल हो गया है:
लाल ही लाल के लाल ही लोचन
लालन के मुख लाल ही पीरा
लाल हुई कटि काछनी लाल को
लाल के शीश पै लस्त ही चीरा।
मजाक की अति इससे कहीं दूसरी नहीं मिलेगी जब गोपियां मिलकर कृष्ण को पकड़ उनके पीताम्बर व काम्बलियाँ को उतारकर उन्हें साड़ी झुमकी आदि पहना दे फिर पांव में महावर आँखों में अंजन लगा गोपी स्वरूप बनाकर अपने झुण्ड में शामिल कर लें तब होली का मजा दूना हुए नहीं रह सकेगा:
छीन पीताम्बर कारिया
पहनाई कसूरमर सुन्दर सारी
आंखन काजर पाव महावर
सावरौ नैनन खात हहारी।
कृष्ण इस रूप में अपने ग्वाल सखाओं के साथ हँसी ठहाका करने में माहिर है। बृजभान ललि भीड़ का लाभ लेकर कृष्ण को घर के अन्दर ले जाती है और नयनों को नचाते हुए मुस्कुराहटे बिखेरती हुई दोबारा होली खेलने का निमंत्रण इस तरह देती है:
फाग की भीर में पकड़ के हाथ
गोविन्दहि ले गई भीतर गोरी
नैन नचाई कही मुसुकाइ के
लला फिर आईयों खेलन होरी।
होली के राग रंग में कोई अधिक देर रूठा नहीं रहता जल्दी ही एक दूसरे को मनाने की पहल चल पड़ती है फिर मिला जुला प्रेम पाने की उम्मीद में सभी रंगों में खो जाते है। लक्ष्य और भावना के चरम आनन्द की भाव भंगिया को आंखों में अंग प्रत्यंग में व्यक्त किये पीढ़ी दर पीढ़ी यह पर्व अनन्तकाल से चला आ रहा है। कृष्ण ब्रज को मन में बसाये एक महारास की निश्छलता श्रद्घा को जीवन्त रखने हेतु सभी को प्रेरित करता हुआ आनन्द की तरंगें फैलाता जीवन में रंग घोल जीने की कला लिये।

द्वारकाधीश मंदिर के सामने,
केसी नामदेव निवास, जगदीशपुरा,
वार्ड नं. 2, होशंगाबाद (मध्यप्रदेश )

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें