इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

गुरुवार, 17 मई 2018

खिड़की

चंद्रमोहन प्रधान

आज पाँच साल पुरानी बात खत्म हो जाएगी। अब नीरज अपना नया खाता फिर खोल सकता है। वह पिछला सब हिसाब साफ़ कर देगा। न एक पाई उधर, न एक पाई इधर।
२१ फरवरी है आज। आज से पाँच साल पहले उसने यहीं, इसी वेटिंग रूम में कुछ देर ठहर कर बनारस वाली गाड़ी पकड़ी थी। ठीक ही कहा गया है, इतिहास अपने को दुहराता है।
चित्रा से उसकी पहली भेंट भी इसी २१ फरवरी को हुई थी। उन दिनों ये यहाँ कॉलेज के एक ही वर्ष में थे। विषय था दर्शन शास्त्र। एम. ए. के अंतिम वर्ष तक पहुँचते हुए उन्होंने सारा जीवन एक साथ व्यतीत करने का निर्णय कर लिया था।
नीरज का घर बनारस में था। पिता वहाँ बनारसी साड़ियों का अच्छा-ख़ासा कारोबार करते थे। यहाँ पटना में वह मौसा-मौसी के घर में रहकर पढ़ रहा था। वे उसे बहुत चाहते थे। मैट्रिक बनारस में उसने कर लिया, तो मौसी ने वहीं बुलाकर कालेज में नाम लिखा कर अपने घर में रखा। उसकी मौसरे भाई-बहनों से अच्छी पटती थी। वहीं से उसने एम. ए. किया और चित्रा का प्यार भी प्राप्त किया।   
समस्या चित्रा के साथ थी। वह कॉलेज में 'ब्यूटी क्वीन' के नाम से मशहूर थी, लेकिन सौन्दर्य और अहंकार शायद साथ-साथ पलते हैं। कम-से-कम नीरज ने ऐसी अभिमानी लड़की पहले नहीं देखी थी। वही चित्रा उसकी ओर झुकी, कितने योग्य धनी सहपाठियों के होते उसके प्रति समर्पिता हो गई, उसमें उसे अपने पुरुषत्व के अहं की तृप्ति महसूस हुई थी। चित्रा के वकील पिता अपनी जिद्दी बेटी को खूब पहचानते थे, उन्होंने उसकी पसंद मान ली। वैसे भी नीरज में कोई कभी कमी नहीं थी। सजातीय तो था ही, सुदर्शन, स्वस्थ, शिक्षित और अच्छे परिवार का, साथ ही बड़ा शरीफ। स्वभाव का बड़ा शांत। वकील साहब ने सोचा कि ऐसे ठंडे दिमाग का लड़का ही उनकी गर्म मिजाज़ बेटी को सँभाल सकेगा। तय हुआ, एम. ए. कर लेने के बाद वह बनारस जा कर पिता की अनुमति ले लेगा, फिर विवाह।
नीरज को प्यार के वे दिन भी अच्छी तरह याद है। चित्रा से प्रेम करना तो कुछ ऐसा ही था, जैसे कोई किसी शेरनी से प्यार करे। वह मूडी थी, जिद्दी भी। कब भड़क पड़ेगी, कुछ ठीक नहीं रहता था। उसकी बात कोई काट दे, यह उसे रंच मात्र सहन नहीं होता था। नीरज को प्राय: लगता, जैसे वह शेर पर सवार है। उतर नहीं सकता, शेर खा जाएगा, और वहाँ बैठे रहना भी बहुत दुष्कर था। उसे बहुत समय चित्रा का मूड सँभालने में लग जाता था। अकसर सोचता, 'पत्नी के रूप में यह कैसी साबित होगी।' लेकिन मन में भरोसा था, विवाह के बाद बदलेगी ज़रूर। स्त्रियाँ शादी के बाद बहुत बदल जाती है। वैसे भी उसे अपने प्रेम पर भरोसा था।
खुद चित्रा ने कहा था, "नीरज, मुझे चाहते हो, तो मेरी ज़िद व सनक को भी सहना होगा तुम्हें। मेरी बात कोई काट दे, अपनी राय थोपे, मैं नहीं सह सकती।"
नीरज खुद वह जानता था, किन्तु चित्रा उसके मन-प्राणों में बसी थी। उसने बेतरह प्रेम दर्शाते हुए कहा था, "चित्रा, तुम जैसी हो, जो कुछ भी हो, मुझे मंजूर है। अब इस मामले में कुछ न कहो।" फिर वह हँस कर बोला था, "मेरे जैसा आज्ञाकारी नहीं मिलेगा तुम्हें।" और चित्रा खुश हो गई थी।
अकसर उसका विचित्र स्वभाव, सनक की हद तक जा पहुँचता था। फलाँ पिक्चर नीरज देखना चाहता है, किन्तु चित्रा वह नहीं देखेगी। नीरज को नीला रंग पसंद है, किन्तु चित्रा की रूचि के अनुसार ग्रे और भूरे रंग के कपड़े ही पहनेगा। फलाँ वक्त चाय का है, फलाँ नाश्ते का यह तो तब था, जब उनका विवाह भी न हुआ था, किंतु चित्रा अपने घर ही में बैठे-बैठे उसके रहन-सहन पर नियंत्रण रखती। नीरज का अपना व्यक्तित्व जैसे कुछ न हो। किंतु वह प्रसन्न था, चित्रा को वह प्यार करता था, उसकी ये ज्यादतियाँ भी प्यारी लगती थीं।

चित्रा ने सपरिवार एक दिन पिकनिक का प्रोग्राम बनाया, उन लोगों के साथ नीरज भी आमंत्रित था। वे चले शहर के बाहर, संजय गाँधी उद्यान में, जहां अच्छे जू के साथ अन्य जीवों का सुरक्षित पार्क है।

पार्क में नाश्ता-पानी कर वे जानवरों को देखने चले। चित्रा बहुत प्रसन्न थी उत्सुकता से बाघ, शेर, गैंडों आदि को उनकी गहरी खाइयों में बैठे धूप सेंकते देखा, सर्प-कक्ष में विभिन्न जातियों के साँपों को देखा, लंबे-चौड़े बाड़ों में हिरन, बंदर आदि देखे, विभिन्न पक्षियों को देखा। बंदरों के कठघरे के आगे बच्चों की भीड़ लगी थी। बंदरों की विभिन्न हरकतों से सब हँसते हुए बेहाल थे। परिवार के बच्चों के साथ चित्रा उनकी हरकतें देख-देखकर खिलखिला कर हँसती रही। नीरज बहुत खुश था। उसे लगा, चित्रा भी सामान्य लड़की ही है। वातावरण की एकरसता ने उसे उबा रखा होगा।

बच्चों के साथ चित्रा ने बंदरों को टॉफियाँ, मूंगफली आदि देने का प्रयास किया, किंतु उधर तैनात रक्षकों ने मनाही कर दी। उन्होंने बताया, कि जानवरों को कुछ बाहरी चीजें खिलाने की अनुमति नहीं है। बच्चे तो मान गए, किंतु चित्रा को अपना अपमान महसूस हुआ। वह अड़ गई। नतीजा हुआ कि रक्षकों ने परिवार वालों की मदद से उसे वहाँ से हटा दिया।

चित्रा का मूड ऐसा खराब हुआ, कि वह सीधी बाहर आकर कार में बैठ गई। नीरज को यह बुरा लगा, लेकिन चित्रा के स्वभाव को समझते हुए कर्तव्यवश वह उसके पीछे आया। उसे समझाने की कोशिश की, किंतु चित्रा यही रट लगाए थी, कि उसका बड़ा अपमान हुआ है।

लेकिन ,"नीरज ने समझाया था, "बात पर गौर तो करो। चिड़ियाघरों का यह सख्त नियम है कि बाहरी दर्शक जानवरों को कुछ खिलाएँ नहीं। इसमें उनका पेट बिगड़ सकता है। वे बीमार पड़ जाते हैं।"

"मेरा ऐसा अपमान कभी नहीं हुआ," चित्रा ने मुँह फेरते हुए कहा।

नीरज हँसा, "चित्रा रानी, अपमान की तो कोई बात नहीं है इसमें। तुमने बाहर लगा बोर्ड नहीं देखा, जिसमें लिखा है, कि जानवरों को कुछ न खिलाएँ। रक्षकों ने तो बस अपने कर्तव्य का पालन किया है। तुम्हें उनकी प्रशंसा करनी चाहिए।"

"जी, माफ कीजिए," वह व्यंगात्मक स्वर में बोली थी, "ऐसा विशाल और उदार हृदय आपको ही मुबारक हो।"

"असल में, डियर चित्रा, तुम्हें अपनी बात की टेक रखने की आदत है। लेकिन सोचो, ऐसा कैसे चल सकता है। हम समाज में रह कर अपनी कैसे चला सकते हैं। सिनेमा, बस आदि के लिए 'क्यू' में टिकट लेना होता है। रेस्तराँ, होटल आदि में भोज के अपने ही नियम होते हैं। सड़क पर चलने के लिए भी अपने तरीके होते हैं। यह कोई अपना घर नहीं, जो "

"बस, चुप रहो," चित्रा गुर्रा उठी, "तुम मुझे नादान बच्ची समझ कर नागरिक शास्त्र पढ़ा रहे हो। वह बदमाश मेरा अपमान कर गया, और तुम देखते रहे। वह न हुआ, कि उसे दो झापड़ लगा देते। तुम कायर डरपोक हो। मेरे पास मत आओ "

नीरज उस दिन हैरान था। इसे नासमझी कहे, या हद् से बड़ा अहंकार और सनकीपन। वह उसे फिर धैर्य से समझाने लगा था, "चित्रा, तुम बात नहीं समझ रही हो। यह कोई बहादुरी दिखाने का मौका नहीं था। सड़क पर यदि कोई तुम्हें घूर कर देख ले, तो उसकी आँख निकाल लूँ लेकिन यह तो "

"चुप रहो," चित्रा चिल्ला उठी थी, "कान मत खाओ। तुम जाओ यहाँ से, तंग मत करो "

नीरज हताश हो गया था। चित्रा की तेज आवाज सुनकर आस-पास के लोग उनकी तरफ देखने लगे थे। वह वहाँ से हट कर टी-स्टॉल की तरफ चल दिया। चित्रा गाड़ी में ही मुँह फुलाए बैठी रही थी।

वापसी में चित्रा नीरज के साथ नहीं बैठी, भाई-बहनों के साथ पीछे की सीट पर बैठ गई थी। उसकी समझ में नीरज कापुरुष था। उस बार कितने दिनों बाद उसका मूड ठीक हुआ था, यह नीरज भूला नहीं था।

ऐसी घटनाएँ होती रही थीं। उन दिनों वह मन को समझाता भी रहता था, कि अभी नासमझ है, तजुर्बा बढ़ेगा, विवाह के बाद जिम्मेदारियों आएंगी तो खुद समझने लगेगी।

एम.ए. की परीक्षा देकर नीरज बनारस गया, और अपने घर वालों को चित्रा के बारे में बताया। उसके पिता चाहते थे, कि वह कारोबार में हाथ बटाएँ। बनारसी साड़ियों के विदेशों में निर्यात की अच्छी संभावनाएँ होने से वह नीरज को यह जिम्मा देना चाहते थे, नीरज भी रूचि ले रहा था। पिता ने राय दी, अपना कार्यालय वह अलग खोल कर व्यापार शुरू कर दे, इसके लिए उन्होंने उसे पूंजी भी देने की बात कही। रही चित्रा की बात, सो घर वाले यही चाहते थे कि नीरज किसी अच्छे घर की मन-पसंद लड़की से विवाह कर ले। उन लोगों ने किसी खास लड़की को अपनी तरफ से तय नहीं किया था। चित्रा का घर-परिवार अच्छा था, लड़की नीरज को पसंद थी ही, माता-पिता ने कोई आपत्ति नहीं की।

अगले वर्ष विवाह हो गया। नीरज ने व्यापार भी प्रारंभ कर दिया था। प्रथम मिलन के लिए नीरज के मन में तरह-तरह की उत्सुकताओं के साथ घबराहट भी उभर रही थी। ऐसे अवसरों में तो पुरूष उत्साहित रहता है और स्त्री संकुचित, घबराई रहती है। किंतु यहाँ मामला चित्रा का जो था।

दो दिन, दो रातें रिश्तेदारों की भीड़, आगंतुकों की बधाई, दावत आदि में निबट गये। इसके बाद नवदम्पत्ति को फुरसत मिली। नीरज की दोनों बहनों और मौसेरी चचेरी बहनों ने उसका शयन-कक्ष फूलों से सजा रखा था। चित्रा वहीं सजी-धजी बैठी थी। दोनों का भोजन और दूध भी वहीं था। कुछ घबराहट के साथ नीरज ने अपने कमरे में कदम रखा।

बहनों ने चित्रा को नववधू के रूप में खुद सजाया था। स्वभाव के विपरीत चित्रा ने चुपचाप सभी रस्में कीं, और जो कहा गया, मानती रही। नीरज ने वह सब देखा, तो उसे लगा कि चित्रा अपना ज़िद्दी स्वभाव भूल रही है, अब उसके साथ वह सामंजस्य बैठा लेगा।
३३३
चित्रा मुसकराई। वह मधुर स्वर में बोली,"तुम मेरे हो, यही काफी है।"

"नीरज हँसा, "सो तो है ही, फिर भी कुछ "

चित्रा उसकी आँखों में देखती हुई बोली,"तो वादा करो, हमेशा मेरी बात मानोगे।"

"यह कैसी बात है।" नीरज असमंजस में बोला,"बात तो मैं तुम्हारी रखता हूँ ही, इसमें भला वादे की क्या जरूरत।"

चित्रा ने उसका हाथ दबाया, 'लेकिन मेरी खुशी के लिए सही "

नीरज को लगा, जैसे फंदे में फंस रहा हो। पति अपनी प्रियतमा पत्नी को प्यार करता है, उसकी बातें भी रखता है, यह सहज और स्वाभाविक है। लेकिन यह तो जैसे वकील की तरह बांड भरवा लेना चाहती है। नीरज प्रतिज्ञा कर ले, तो क्या सारी गलत-सही बातें मानते रहना पड़ेगा।

"क्या व्यर्थ की जिद करती हो !" उसने समझाया, "चित्रा, बातें तो सभी मानता हूँ तुम्हारी। किंतु मेरी समझ में यदि गलत करती हो, तो समझाता भी हूँ।"
"मेरी खुशी के लिए सही," चित्रा की मुसकराहट तो बरकरार थी, किंतु नेत्रों में जिद की कड़ाई आने लगी थी। बात बढ़ने देने से रोकने के लिए नीरज ने कह दिया, "ठीक है, तो मैंने वादा किया।"
"क्या वादा?" चित्रा ने जिद की, "अपने मुँह से साफ-साफ तो कहो।"
नीरज हँसा, "वकील बाप की बेटी ठहरी। खैर, मैं वादा करता हूँ, कि तुम्हारी बातें मानूंगा। अब तो खुश हो।"
चित्रा का उभरता तनाव गायब हो गया। उसने नीरज के होंठ चूम लिए। "अब मैं खुश हूँ।" वह बोली।

भोजन की प्लेटों के साथ केसरिया दूध के दो गिलास ढके थे। दूध में मेवों के टुकड़े तैर रहे थे। नीरज ने एक गिलास चित्रा को दिया, एक खुद लेकर चुस्की लेने लगा।
'लगता है, आज की रात बातों में कटेगी। जी भर कर आज बातें करना चाहता हूँ तुमसे।"
चित्रा हँसी, "आज की ही रात क्या, जिन्दगी भर बातें बनाते रहो, मैं बातों से ऊबती कभी नहीं।"
नीरज ने गले में पड़ी मालाएँ उतारकर सिरहाने रख दीं। चित्रा बोली , "वह उधर की खिड़की तो खोलो, घुटन-सी लग रही है।"
"उधर गली पड़ती है," नीरज ने कहा, "कोई आता-जाता झाँक-देख सकता है।"
"कोई परवाह नहीं, तुम खोल दो।"
उसके स्वर में कड़ापन महसूस कर नीरज ने समझाया, "देखो, जरा-सी बात "
"वह कुछ नहीं," चित्रा ने आदेश-सा दिया, "तुम खिड़की खोल दो "
नीरज ने गौरसे देखा। उसे उसमें पुरानी चित्रा की झलक दिखी। उसे अखरा। वह बोला, 'क्या बेकार की बात को लेकर "
"नीरज, तुमने मेरी बातें मानने की प्रतिज्ञा की है।" चित्रा ने फटकार-सी लगाई।
नीरज के अहं को चोट लगी। अब वह पति था। पत्नी को उसका भी मन रखना चाहिए। वह कुछ रूखी आवाज में बोला, "बात मानने का यह अर्थ तो नहीं कि मैं तुम्हारी हर उचित-अनुचित बात मान लूँगा।"
"हाँ, तुम्हें मानना होगा।" चित्रा ने तैश में आकर कहा।
"मैं नहीं मानता।"
"तुम नहीं मानोगे?" वह कठोरता से बोली।
"तुम्हारी बात पत्नियों जैसी नहीं है। मैं प्रेम सहित किए उचित आग्रह को तो मान लूँगा, किंतु किसी दबाव में नहीं आ सकता।" नीरज ने दृढ़ता से कहा।
"तो यह बात है," चित्रा की आँखों से चिनगारी-सी छूटी,"तुमने अपना रंग दिखा ही दिया।"
"यही उचित तथा सही रंग है।" नीरज ने तुर्की-ब-तुर्की उत्तर दिया।
"नीरज, याद रखो, अभी खिड़की नहीं खोलते, तो मुझसे कोई नाता अब नहीं रहेगा। फिर मैं कहती हूँ, खोल दो।"
"नहीं।"
"तुम नहीं खोलोगे?"
"नहीं, नहीं, नहीं !" नीरज झल्लाया, "कितनी बार कहूँ, मैं नहीं खोलूँगा।"

चित्रा ने उसकी ओर से पीठ फेर ली। वह दीवार की तरफ मुँह फेर कर लेट गयी। नीरज कुछ देर बेवकूफों की तरह बैठा रहा, फिर बत्ती गुल कर सोफे के ऊपर जा लेटा।

सवेरे जगा, तो चित्रा बाथरूम में थी। वह बाहर चला आया। दूसरी रात्रि में भी वही हाल रहा। चित्रा पलंग पर, नीरज सोफे के ऊपर। घरवालों को भनक न लगी कि कुछ गड़बड़ी है। अगले दिन चित्रा का भाई आया, तो वह माँ के घर चली गई। इस बीच दोनों में कोई बातचीत नहीं हुई। चित्रा का दो दिन के बाद घर जाना निश्चित था ही, किसी को कुछ असामान्य न लगा।

महीने भर बाद नीरज के पिता ने उससे कहा,"पटना से वकील साहब का पत्र आया है। आज के चौथे दिन विदाई को सायत बनती है, तुम जा कर बहू को ले आओ।"

नीरज ने सोचा कि अब चित्रा का मूड ठीक हो गया होगा। उसने कई तरह के उपहार, मिठाई आदि के साथ ही एक जोड़ी कीमती बनारसी साड़ियों को पैक करा कर ससुराल की राह ली।

पहली बार ससुराल में आनेपर दामाद की बड़ी खातिर हुई। अब वह उस घर में दामाद था। घर में आने पर नीरज ने इधर-उधर देखा, पर उसे कहीं चित्रा की एक झलक भी देखने को नहीं मिली। रात में जब वह सोने के लिए कमरे में पहुँचा, तो वह पलंग पर बैठी थी, कठोर चेहरा बनाए।
नीरज ने हँसी में कहा, "देवी जी का गुस्सा तो बरकरार लगता है। भौंहों पर ये धनुषबाण तने हैं।"
चित्रा ने संकेत दिया, "पहले वह खिड़की खोल दो, बाकी बातें उसके बाद।"
नीरज का माथा ठनका। यहाँ भी एक खिड़की, और वह भी बंद पड़ी है।
चित्रा बोली,"तुम्हारे घर वाली उस खिड़की की यादगार में मैंने यहाँ आकर इसे लगातार बंद रखा है। तुम खोलोगे, तभी यह खुलेगी, और हम लोगों के बीच की वह उलझन वाली गाँठ भी खुलेगी।"
नीरज को बुरा लगा। वह बोला,"तुम्हारे जैसी ग़ज़ब की जिद्दी तो..."
"जो हो," चित्रा ने बात काट दी, "तुम खिड़की खोलो, वरना जाओ यहाँ से..."
नीरज को भी क्रोध आ गया। उठ खड़ा हुआ, "मैं नहीं खोलता।"
चित्रा मुँह फेर कर लेट गई। नीरज ने देखा, वहाँ सोफासेट की जगह आराम कुर्सी थी। रात भर आराम कुर्सी पर पड़ा वह सिगरेटें फूकता रहा। सवेरा होते ही नश्ता-पानी कर अपना सूटकेस लिए निकला, और सीधा स्टेशन चला आया। साड़ी सूटकेस में पैक पड़ी रही।
वह २१ फरवरी का ही दिन था, आज फिर नीरज २१ फरवरी को यहाँ उसी वेटिंगरूम में हैं। लेकिन इस बार वह चित्रा के लिए नहीं आया था।
तो, पाँच साल पहले वह उस २१ फरवरी को यहाँ से बनारस लौट गया। चित्रा की ज़िद की बात घर में साफ कह दी। वह बात चित्रा के घरवालों को भी मालूम हो गई थी। उन्होंने उसकी निरर्थक ज़िद को दूर करने की बहुत चेष्टा की, किंतु वह तिल भर न डिगी। घर वाले निराश हो कर बैठ गए। चित्रा ने वहीं के एक कॉलेज में पढ़ाना शुरू कर दिया। इधर बनारस में नीरज ने उसकी ओर से ध्यान हटा कर अपने व्यापार में मन लगाया।
नीरज के पिता ने वकील साहब को पत्र लिखा, कि जब बहू का यह रूख है, तो वे नीरज की दूसरी शादी की बात सोच रहे हैं। उधर से उत्तर आया कि उन लोगों ने फिर बहुत समझाया चित्रा को, किंतु वह बनारस नहीं जाना चाहती, विवाह-विच्छेद के लिए तैयार है, परस्पर सहमति से विवाह विच्छेद कर, नीरज की दूसरी शादी कर सकते हैं।
किंतु दूसरी शादी के लिए खुद नीरज तैयार नहीं हुआ। घर वाले मौन हो गए। विवाहित नीरज का जीवन विचित्र एकाकीपन में व्यतीत होने लगा।
पाँच साल गुज़र गए, नीरज को व्यापारिक व्यस्तताओं में समय का कुछ पता न लगा। उसने जान-बूझ कर खुद को व्यस्त बना लिया था। कारोबार बहुत अच्छा चलने लगा था। इस बीच छोटे भाई का विवाह हो गया, बहू घर आ गई। घर वालों ने मान लिया, नीरज ऐसे ही रहेगा।
अकसर पटना से वकील साहब के पत्र आते, वह अपनी जिद्दी लड़की के अहंकार के प्रति खेद प्रकट करते लिखते, कि इस विवाह का कोई अर्थ नहीं रहा। वह खुद कानूनी कार्रवाइयों के लिए राजी हैं, नीरज दूसरा विवाह कर ले। चित्रा ने घर में घोषित कर रखा था कि वह अब जीवन में यों ही अकेली रहेगी। पत्रोत्तर में नीरज लिख देता कि वह विवाहित है, और दूसरा विवाह उसे नहीं करना।
माँ तो चित्रा की पहले ही चल बसी थीं। तीन साल के बाद वकील साहब का भी निधन हो गया। चित्रा अब बड़े भाई-भाभी के साथ रहती, कॉलेज में नौकरी कर रही थी।
नीरज को प्रति वर्ष २१ फरवरी को चित्रा की याद खास तौर से हो आती। उसी दिन उनका प्रथम परिचय कॉलेज में हुआ था, साल भर बाद, उसी दिन वह पाँच साल पहले इसी पटना स्टेशन के वेटिंगरूम में थोड़ी देर ठहर कर बनारस लौटा था, उपहार की साड़ी उसी प्रकार पैक किए, फिर न आने के लिए। और, आज फिर पाँच साल बाद वाली २१ फरवरी है, नीरज यहाँ पटना रेल्वे स्टेशन के वेटिंग रूम में है।
असल में संयोग कुछ ऐसा रहा, कि इस बार एक व्यापारिक सम्मेलन में पटना आना पड़ा था। पिछले पाँच साल से वह पटना नहीं आया था। उत्तर पूर्वी क्षेत्रों के रेशमी वस्त्रों के विक्रेता, वितरकों आदि का वह सम्मेलन पटना में २० फरवरी को शुरू हुआ। बनारस से वह १९ की रात को पटना चला था, चलते वक्त न जाने क्या सोच कर उसने उसी प्रकार पैक पड़ी वे साड़ियाँ भी सूटकेस में पड़ी रहने दीं, हालाँकि चित्रा से मिलने का उसका कोई इरादा नहीं था।
२१ का दिन दिनभर पटना के मौर्य होटल में प्रतिनिधियों के आपसी परिचय, निजी बैठकों तथा व्यापारिक करारों में बीता। संध्या को प्रतिनिधियों ने मनोरंजन के अपने-अपने भिन्न कार्यक्रम बनाए। कल सवेरे रवानगी थी।
नीरज संध्या के चाय-जलपान के बाद जरा घूमने-फिरने का प्रोग्राम बना कर कपड़े बदलने लगा, कि सूटकेस में पैक पड़ी लाल रंग की साड़ियाँ ध्यान खींचने लगी।
अभिमंत्रित-सा वह पैक साड़ियाँ निकाल कर देखने लगा। इनके साथ पटना की, अपनी ससुराल की और चित्रा की यादें जुड़ी हुई थीं। उसे न जाने क्या प्रेरणा हुई, कि साड़ियों का पैकेट निकाल कर बैग में रखा, कमरे का ताला बंद कर चाबी नीचे काउंटर पर दे, बाहर चला आया।
एक रिक्शे से वह स्टेशन गया। बनारस के लिए ट्रेन के टाइम वगैरह की जानकारी ली, थोड़ी देर के लिए उसी वेटिंग रूम में बैठा, जहाँ पाँच साल हुए, यहाँ से निराश लौटते समय भी बैठा था।
अभी चित्रा के यहाँ जाकर पिछले पाँच साल का हिसाब साफ कर देगा, और फिर बनारस लौट कर नए सिरे से वहीं एकाकी जीवन व्यतीत करेगा फिर हमेशा के लिए वह आज़ाद। बोरिंग रोड पहुँचते बहुत देर न लगी। वह असमंजस में पड़ा था। मन में कभी होता, इधर क्यों आया है। मन कहता था,"यहाँ उसकी ससुराल है।" मस्तिष्क कहता था,"रिश्ते टूट चुके हैं।" हृदय की कामना अधिक बलवती थी, जो ज़ोर दे रही थी, कि चित्रा को ज़रा एक बार देखे तो सही।
ससुराल वालों को पाँच साल बाद आए दामाद को पहचानने में कुछ देर लगी। घर में भाभी और बच्चे थे, भाई साहब कहीं बाहर थे। भाभी ने बड़ी खातिर से नीरज को बैठाया, जलपान कराया, कुशल-मंगल पूछी, सम्मेलन की बात जानी, और खेद सहित कहा,"आप को हम क्या कहें। जब अपना ही सोना खोटा, तो..."
नीरज हँसा, "अजी भाभी जी, चित्रा को इन्हीं तमाशों में मज़ा आता है, चलने दीजिए।"
"वक्त और उम्र भी तो कोई चीज़ है, ज़िंदगी का कोई अपना सुख भी तो होता है।" भाभी ने सखेद कहा,"लेकिन आप तो चित्रा बीबी की बचकानी ज़िद के चलते अकेलेपन की यह तकलीफ़ भोग रहे हैं। क्या कहें, वह तो खुद भी अकेली है। अपने को कॉलेज के कामों में उलझा रखा है।
"जैसे मैंने खुद को व्यापार में..."
"वह किसी सहेली के यहाँ जन्मोत्सव में गई हैं, आ रही होंगी," भाभी ने कहा,"आप उनके कमरे में चलकर आराम कीजिए।"
"यहीं रहूँ तो क्या हर्ज़ है!" नीरज ने असमंजस में कहा, लेकिन भाभी मानी नहीं। वह उसे चित्रा के कमरे में ले आई। उसे सोफे पर बैठाते हुए कहा,"देखिए जरा उस खिड़की को। पाँच साल हो गए, उसे खुलने ही नहीं दिया। इस खिड़की से धूप और हवा अच्छी आती है, लेकिन बीबी जी की ज़िद!"
नीरज ऐसा लज्जित हुआ, जैसे उस खिड़की के बंद रहने में उसी का दोष हो।
"आप आज यहीं रहिए,"भाभी ने आग्रह किया,"क्या अपना घर रहते हुए भी होटल में..."
"भाभी, वह तो प्रतिनिधियों के लिए तय है।"
"जो भी हो, आप चित्रा बीबी से मिल तो लीजिए। ज़रा बैठिए, मैं आती हूँ। रात का भोजन आप को यहीं पर करना है।" कहती भाभी लौट गई।
चित्रा के कक्ष में सादगीपूर्ण सजावट थी। एक तरफ़ बुकशेल्फ में काफी किताबें, लिखने-पढ़ने की मेज़, कुर्सी लगी हुई, हैंगरों में कुछ कपड़े टँगे। किसी पढ़ाकू महिला का कमरा लग रहा था। तभी नीरज चौंका, लिखने की मेज़ पर तिरछा लगा हुआ एक फोटोग्राफ़। वह उत्सुकता दबा न सका। जा कर देखा, उसी का फोटो था। ऐसे लगा था कि पुस्तकों की आड़ में पड़ता था।
अभी भी चित्रा उसे चाहती है पता नहीं। संभवत: चित्र यों ही रखा रह गया हो। लेकिन लिखने की मेज़ पर
वह खिड़की सारी मुसीबतों की जड़...
नीरज को कुतूहल हुआ। पाँच साल से बंद पड़ी है, भाभी तो कह रही थीं। तब तो यह जाम हो गई होगी। वह उत्सुकता न दबा सका। आगे जा कर खिड़की का हैंडिल पकड़ा, खींच कर खोला, यों सपाट खुल गई, जैसे रोज़ ही खुलती रही हो।
वह घबराया। खिड़की उसे नहीं खोलनी थी। चित्रा हमेशा बंद रखती है। उसने चाहा, कि उसे फिर बंद कर दे, तभी किसी के आने की आहट से चौंक पड़ा। चित्रा सामने खड़ी थी। विस्मित नेत्र, मुँह खुला वह सब भूल कर उसे निहारने लगा।
कुछ ख़ास अंतर तो नहीं पड़ा, इस बीच बदन कुछ भर गया है। कितनी सुंदर लग रही है। चेहरे पर आत्मविश्वास है, लेकिन वही चित्रा है
"तु तु..." चित्रा हकलाई।
नीरज ने खिसियानी मुसकराहट के साथ कहा, "भाभी यहीं बैठा गई थीं।"
चित्रा कुछ सामान्य हुई। वह बोली, "तभी! किसी ने न बताया, कौन है। भाभी ने हँस कर यही कहा था, भीतर कोई तुम्हारी प्रतीक्षा में हैं। मैं समझी, कि कोई दोस्त बैठी होगी।"
"मैं क्या दोस्त नहीं, दुश्मन हूँ।" नीरज ने वातावरण को हलका करना चाहा।
"बैठो," चित्रा बोली। तभी उसकी नज़र पड़ी खिड़की की ओर।
"अरे, खिड़की तुमने खोल दी है!"
नीरज सफाई-सी देता बोला, "यों ही देख रहा था, पाँच साल से जाम पड़ी हुई है खुलती है या नहीं।"
चित्रा के होठों पर मुसकान आ गई, "तो, तुमने खोला इसे?"
"अभी बंद कर देता हूँ," नीरज पसीने-पसीने हो रहा था।
"बिलकुल नहीं," चित्रा उसके पास आ बैठी, "खुली रहने दो। कैसी अच्छी हवा आ रही है।"
नीरज सब भूल कर चित्रा के बदन की सुगंध मे खो गया। वह उसका हाथ अपने हाथ में लेकर बोला, "ताज्जुब है, बड़ी आसानी से खुल गई।"
चित्रा हँसी, "बड़ी-बड़ी बातें अकसर एक बहुत ही नाजुक कमानी पर संतुलित रहती है।"
तभी भाभी ने मिठाई-नमकीन आदि की ट्रे लिए प्रवेश किया, और दोनों को साथ एक ही सोफे पर बैठ देख चहकी, "तो खूब बातें हो रही हैं पूरे पाँच साल की बातें। अरे, वह खिड़की वह कैसे खुली?"
नीरज ने सिर झुका लिया। चित्रा बोली ,"भाभी, खिड़की ने खुद को इनसे खुलवा लिया है। अब खिड़की खुल गई।"
अगले दिन, नीरज चित्रा के साथ बनारस वाली गाड़ी की प्रतीक्षा में वेटिंगरूम में बैठा था। सामान बाहर प्लेटफार्म पर रखा था। चित्रा के भाई-भाभी भी उन्हें स्टेशन तक पहुँचाने आए थे। वे बड़े खुश थे। पाँच साल बाद सही, बहन को घर मिला, अब सब सामान्य रहेगा।
भाई साहब रिज़र्वेशन कराने बुकिंग ऑफ़िस गए थे। भाभी ज़रा देर के लिए बाथरूम में गई, तो नीरज ने मौका पाकर पूछा, "चित्रा, मैं अभी भी इस चक्कर में हूँ, कि पाँच साल से बंद पड़ी खिड़की ऐसी आसानी से कैसे खुल गई थी।"
मदमाती आँखों से उसकी आँखों में देखती चित्रा मुसकराई, "मैं उसे रोज़ एक-दो घंटे के लिए खोल देती थी, तुम्हारी तरफ़ से।"
"ओह!" नीरज हँसा, "तो यह बात थी। आखिर खोली तुम्हीं ने न!"
"वाह, मैंने क्यों," चित्रा भी हँस कर बाली, "तुम्ही ने तो खोली है, तुम हार गए।"
"मैं हारा कहाँ!" नीरज ने उसका हाथ दबाया, "मैं जीत गया हूँ। सच पूछो, तो हम दोनों ने मिलकर खोली। जानती हो, कल २१ फरवरी को यहाँ टाइम पूछने आया था, इसी जगह थोड़ी देर बैठा था। सोचा था, "बोरिंग रोड जाकर पिछले पाँच साल का हिसाब कर दूँगा, और फिर बनारस जा कर अपने एकाकी जीवन की नये सिरे से शुरुआत करूँगा। लेकिन, तुम्हारे यहाँ गया, तो वही पुराना हिसाब नए खाते में चालू हो गया।"
"यह हिसाब अब साफ़ होने वाला नहीं," चित्रा मुसकराई, "यह तो बढ़ता ही रहेगा, चक्रवृद्धि ब्याज की तरह।"
भाभी जी बाथरूम से निकल आई। स्टेशन पर गाड़ी के शीघ्र पहुँचने की घोषणा की जा रही थी।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें